This is the Blog Owner

.

Subscribe Us



Latest Post

Excel माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस पैकेज का एक application सॉफ्टवेर है जिसका प्रयोग कैलकुलेशन और डाटा के analysis के लिए होता है. MS Excel में कैलकुलेशन के लिए formula कि एक बहुत बड़ी library है और डाटा को व्यवस्थित करने के लिए कमांड कि लिस्ट है. इसके लिए बहुत सारे पुराने और नए वर्शन है.
आज के समय में माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल एक बहुत ही popular सॉफ्टवेर है जिसका उपयोग बड़ी-बड़ी कंपनिया अपने डाटा मैनेज, सॉर्ट, फ़िल्टर और analysis करने में करती है क्योंकि इसे चलाना और इसके function को उपयोग करना बहुत ही आसन है. लिस्ट, sheet, रिजल्ट sheet बनाने से सम्बंधित जितने भी काम है सभी एक्सेल में किये जाते है. अगर आप किसी कंप्यूटर ऑफिस में काम करते है या करने जायेंगे तो एक्सेल जरुरी रूप से माँगा जायेगा, इसलिए आपको इसे अच्छे से सीख लेना चाहिए.
excel-kya-hai-in-hindi
अगर बात एक्सेल चलाना सिखने कि है तो हम आपको एक दम बेसिक से शुरू करेंगे ताकि आपके मन में कोई सवाल न रह जाए. तो सबसे पहले हमे एक्सेल के बारे में पूरी जानकारी होना चाहिए कि एक्सेल क्या होता है और इसमें रो, कॉलम, function, formula क्या होता है और इसमें कुल कितनी Tab होती है, प्रत्येक टैब में कितने टूल्स ग्रुप होते है और इन्हें कैसे उपयोग करते है.

Microsoft Excel कैसे open करे?

कंप्यूटर में excel खोलना बहुत ही आसन है अगरआप नहीं जानते है कि एक्सेल open कैसे करते है तो आपको निचे बताई स्टेप्स को follow करना है.
STEP1:- सबसे पहले टास्कबार में बायी ओर निचे दिख रहे Start button पर क्लिक करे. जिससे Start Menu खुल जायेगा.
STEP2:- अब All Programs पर क्लिक करे. यहाँ पर आपको कंप्यूटर में installed सभी सॉफ्टवेर फोल्डर दिखाई दे रहे होंगे. यहाँ पर आपको Microsoft Office के नाम से भी एक फोल्डर दिखाई दे रहा होगा इसे क्लिक कर open करे.
excel-open-kare-in-hindi




STEP3:- जब आप इस फोल्डर को open कर लेंगे तो आप देख सकते है कि Microsoft ऑफिस पैकेज के सभी सॉफ्टवेर लिस्ट दिखाई देगी. यही पर आपको Microsoft excel के नाम से program दिखाई देगा उसे क्लिक कर दीजिये. क्लिक करने के बाद ही आपके कंप्यूटर system में Excel open हो जायेगा.
अगर आपके कंप्यूटर में माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस इनस्टॉल नहीं है तो यह फोल्डर नाम दिखाई देगा इसलिए पहले कंप्यूटर में MS ऑफिस इनस्टॉल करे.

Excel वर्कबुक (Workbook) और वर्कशीट (worksheet) क्या है?

Workbook:- Excel कि सभी फाइल को वर्कबुक कहते है. एक वर्कबुक कई वर्कशीट का समूह होती है. Excel में पहले से 3 वर्कशीट होती है जिसे हम अपनी आवश्यकतानुसार बढाया या घटाया जा सकता है.
work-book-and-worksheet-kya-hai
Worksheet:- एक वर्कशीट सेल्स का कलेक्शन होती है जहा पर हम अपने डाटा को रखते है और manipulate करते है. हम सभी एक वर्कबुक में कितनी भी worksheet खोल सकते है.
यह भी पढ़े:-

Excel में Row, Column, Cell क्या होता है?

Row:- एक रो सेल्स का क्षेतिज ब्लाक है. रो का नाम नंबर 1, 2, 3 से शुरू होता है.
Column:- यह रो और कॉलम का intersection होता है cell में एंट्री करने से पहले उसे एक्टिवेट करना पड़ता है.

Excel बटन क्या है? Excel बटन और Tab कि जानकारी.

1) Office Button:- यह button Microsoft एक्सेल का सबसे जरुरी button होता है क्योंकि इसमें Sheet के विभिन्न विकल्प - New, Open, Save, Save as, Print, Prepare, Send, Publish, Close जैसे जरुरी विकल्प मिलते है.
excel-button-hindi-me
2) Quick Access Toolbar:- इसे आप शॉर्टकट टूलबार भी कह सकते है क्योंकि यहाँ पर एक्सेल में सबसे अधिक उपयोग होने वाले shortcuts होते है. जिसे हम क्लिक करके डायरेक्ट एक्सेस कर सकते है. जैसे- undo, redo, save etc. अगर हम चाहे तो अपने उपयोग के आधार पर इसमें और भी shortcuts को जोड़ सकते है.
3) Excel Tabs:-
एक्सेल कि Tab में हमे टूल्स के ग्रुप मिलते है. एक्सेल में कुल 7 Tabs होती है. इन सभी टैब्स के नाम और इन टैब्स को शॉर्टकट से open करने के लिए shortcuts भी बताये है.
TabShortcut Keys
HomeALT+H
InsertALT+I
Page LayoutALT+P
FormulaALT+M
DataALT+A
ReviewALT+R
ViewALT+W
4) Minimize:- यहाँ से हम वर्तमान में खुले excel spreadsheet को Task bar में minimize यानि कि बैकग्राउंड में कर सकते है और दुसरे काम भी कर सकते है. इन तीनो (Minimize, Maximize, Close) को windows button के नाम से जाना जाता है.
5) Maximize:- इस button कि हेल्प से हम एक्सेल कि window कि साइज़ को कम ज्यादा कर सकते है या Resize कर सकते है.
6.) Close:- इस button से हम Excel sheet को क्लोज बंद कर सकते है. अगर आपने फाइल save नहीं करी है तो फाइल क्लोज होने के पहले फाइल save करने का notification मिलता है .
7) Formula Bar:- यह एक बार होता है जहा पर हम अपने हिसाब से formula लिखते है. हम formula या function को यहाँ से बदल भी सकते है.
8) Name Box:- यह बॉक्स formula बार के बायीं तरफ होता है जो हर cell. chart या ऑब्जेक्ट कि स्तिथि बताता है.
9) Scroll Button:- स्क्रॉल button का प्रयोग sheet पर शीघ्रता से मूव करने के लिए किया जाता है.
10) Title Bar:- यह बार सबसे सेंटर में सबसे ऊपर होता है, इसे Title bar कहते है. यहाँ पर एक्सेल कि फाइल का नाम दिखाई देता है. अगर हमने फाइल को Mark list के नाम से save करते है तो टाइटल बार में Mark list नाम दिखाई देगा. By Default इसका Book 1 होता है.
11) Sheets:- यह एक tab होता है सभी वर्कशीट का नाम दिखता है और यहाँ से हम किसी भी sheet पर जा सकते है.
12) Active Worksheet:- वर्तमान में हम जिस वर्कशीट पर काम करते है उसे एक्टिव वर्कशीट कहा जाता है.
13) Zoom button:- यहाँ से हम एक्सेल sheet को ज़ूम (Zoom in, Zoom out) कर सकते है और बारीकी से देख सकते है.

फंक्शन (function) & फार्मूला (formula) क्या होता है?

फंक्शन:- function किसी काम को करने के लिए कुछ आर्गुमेंट के साथ पहले से सेट रिज़र्व word होते है. function या तो = या + के चिन्ह के साथ स्टार्ट होता है.
फार्मूला:- formula जटिल से जटिल सवाल को आसानी से हल करने कि ट्रिक है. formula भी या तो = या + के चिन्ह से प्रारंभ होता है.
आशा करता हु कि दोस्तों आपको एक्सेल के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी जिसमे आप जान गए होंगे कि Excel एक्सेल क्या है और एक्सेल के button, tab के बारे में भी समझ गए होंगे.

नमस्कार दोस्तों आज हम आप लोगो को माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल से जुडी एक प्रोसेस बताने वाले है की किस तरह से आप माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल का उपयोग बिल बनाने में कर सकते है. सामान्यतः लोग एक्सेल का उपयोग लिस्ट, रिजल्ट बनाने , डाटा को मैनेज करने के लिए करते है . लेकिन क्या आज आप जानते है. हम Excel में Bill भी बना सकते है.

दोस्तों आप यह तो जानते है की जब हम दुकान से किसी सामान को खरीदते है तो हमे उसका बिल दिया जाता है. पुराने टाइम पर हाथ से लिखे बिल का उपयोग किया जाता था लेकिन अब समय बदल चूका है अब पेपर प्रिंटेड बिल का उपयोग किया जाता है. जिससे दुकान की थोड़ी value बढती है और आपके व्यापार करने के तरीके को एक नया रूप मिलता है.
excel-me-bill-kaise-banaye-in-hindi
अगर आप नहीं जानते है की Excel में Bill कैसे बनाया जाता है तो आपको हमारी निचे बताई स्टेप्स को जरुर पढना चाहिए. उसके बाद आप बड़े ही आसानी से अपनी दुकान पर किसी भी सामान की बिक्री पर उसका Bill बना सकते है.

Excel में Bill कैसे बनाये ?

दोस्तों वेसे तो Excel में Bill बनाना कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन हर कोई यह भी नहीं जनता है की एक्सेल क्या होता है और इसे कैसे चलते है तो मैंने यहाँ पर इसे विस्तार से बताया है. ताकि हर किसी को समझ में आ जाये. अगर इसके बाद भी एक्सेल Bill बनाने में कोई प्रॉब्लम आती है तो इसके लिए मैंने निचे खुद का बनाना बिल का फॉर्मेट भी upload किया है. अगर आप इसे सीधे download और उपयोग करना चाहे तो ऐसा भी कर सकते है.
स्टेप 1:- बिल बनाने की पहली स्टेप में हमे सबसे पहले Microsoft Excel सॉफ्टवेर को Open करना होगा. इसे शॉर्टकट तरीके से खोलने के लिए Windows key के साथ R दबाये. जिससे Run नाम का प्रोग्राम open हो जायेगा. तब आपको इसमें excel लिख कर Enter कर देना है.
स्टेप 2:- Excel open होने पर अब आपको सबसे पहले ऊपर वाले cell में अपने business या  दुकान का नाम डालना है और फिर उसके नजदीकी 6 cells तक सेलेक्ट करके Merge & Center कर देना है. और उसके बाद Bold कर देना है इसे डायरेक्ट शॉर्टकट तरीके से करने के लिए कीबोर्ड से Ctrl+B दबाना है.
स्टेप 3:- अब हमे इसके निचे और left side cells में Bill number, Name, Address, Data, GST No, Contact डालना है. अच्छे से समझने के लिए निचे दिए गए image में देखे. आपक इस तरीके से लिखना है. चूँकि हम इनमे details बाद में डालेंगे इसलिए इनके आगे ........... (Dash) करके छोड़ देंगे.
bill-details-dale

स्टेप 4:- अब Excel में bill बनाने और सामान की एंट्री चडाने के लिए  के इसमें SN, Product Name, Quantity & Amount के नाम से column बनायेंगे. चूँकि सामान और उसकी कीमत एक्सेल खुद ही निकलेगा इसलिए पहले हमे एक्सेल में फार्मूला लगाना होगा. तब amount वाले column में हमे गुणा का फार्मूला लगायेंगे.
excel-me-multiply-formula-lagaye
इसके लिए हम सबसे पहले कीबोर्ड से = दबाये फिर * (गुणा) का चिन्ह दबायेंगे और Rate वाले column के निचे ले जाकर Enter कर देंगे. यानि की हमने Amount वाले column में Rate और quantity का गुणा किया है. अभी हमे यह फार्मूला सिर्फ एक cell में लगाया है और हमे बिल बनाने के लिए इसके आगे के cells में भी फार्मूला की जरुरत है. तब हम इस पर क्लिक कर इसे निचे की और Drag कर देंगे. जिसके कारन आगे के cell में भी फार्मूला Apply हो जायेगा.
स्टेप 5:- अभी हमने गुणा का फार्मूला लगाया और अब हम total amount के पास वाले cells में Sum यानि की जोड़ का formula लगाने वाले है. जिससे इंटर किये गए सभी सामान की कीमत का जोड़ लग जायेगा. तब इसके लिए सबसे पहले = दबाये फिर Sum लिखे और ( ) लगाकर फार्मूला को रेंज बताये. मान लीजये की अगर आपको E7 से लगाकर E18 तक का जोड़ लगन अहै तो हमारा फार्मूला कुछ इस तरीके से होगा. Example:- =sum(c7:c18)
excel-sum-fomula-in-hindi
यह काम तो पूरा हुआ अब हमे excel bill में निचे की और Signature नाम से एक बॉक्स बनाना है. और साथ ही अगर आप चाहे तो कुछ Terms & Conditions को भी लिख सकते है. जिससे आपके बेचे गए सामन पर उपभोक्ता पर कुछ नियम लागु हो जायेंगे.
excel-me-bill-ban-gaya-hai
ऊपर दिखाई image में आप देख सकते है की Excel में Bill बनाने के बाद कुछ इस तरह का दिखाई देगा.
दोस्तों अगर आप इस बिल को नहीं बनाना चाहते है बल्कि सीधे इस बिल के फॉर्मेट को download करना चाहते है तो निचे मैंने download लिंक दिया है.जिस पर क्लिक करके आप इस बिल को download और उपयोग कर सकते है.

यह भी पढ़े 👇
आशा करता हु दोस्तों आप लोगो को यह पोस्ट पसंद आई होगी. अगर आपको हमारा यह पोस्ट Excel में bill बनाना अच्छा लगा है तो हमे comment कर जरुर बताये. ताकि हम आप लोगो के लिए इसी तरह की और भी पोस्ट लिखते रहे.

नमस्कार दोस्तों हमारी वेबसाइट karekaise.in वेबसाइट पर आप सभी का स्वागत है. आज हम आप लोगो को उत्तर प्रदेश सरकार की एक online योजना के बारे में बताने जा रहे है की किस तरह से उत्तर प्रदेश सरकार अपने राज्य के गन्ना उत्पादको को online गन्ना पर्ची कैलेंडर के माध्यम से लाभ पंहुचा रही है. आप यह तो जानते ही होंगे की उत्तर प्रदेश को गन्ना प्रदेश के नाम से जाना जाता है क्योंकि यहाँ पर दुसरो राज्यों के मुकाबले में सबसे अधिक गन्ना उगाया जाता है और दुसरो राज्यों में supply भी किया जाता है.

अब ऐसे में Government की जिम्मेदारी बनती है की उसके राज्य को आगे बढ़ने वाली फसल को बढ़ावा दिया जाया और इस फसल के उत्पादनकर्ताओ को सरकार से कुछ सहायता भी मिले. तो उन्होंने एक online वेबसाइट की शुरुवात की जहा पर गन्ना किसान अपनी फसल को सीधे गन्ना मिलो को बेच सके और online ही गन्ना पर्ची कैलेंडर भी देख सके.
ganna-parchi-calendar-kaise-dekhe
अगर आप भी एक गन्ना kisaan है तो आपको हमारी इस पोस्ट को पूरा पढना चाहिए. ताकि आपको गन्ना पर्ची और गन्ना कैलेंडर देखने से जुडी बाते पता चल सके. इस पोस्ट में हम आपको kisaan.net से online गन्ना कैलेंडर कैसे देखते है सिखाने वाले है.

Kisaan.net से Online गन्ना कैलेंडर कैसे देखे?

अगर आप एक गन्ना कृषक है और अपने गन्ना की फसल को बेचना चाहते है तो उसके लिए आपको व्यापारियों से मिलना होगा जो की यह फसल खरीदते है लेकिन वो आपकी मेहनत की फसल का पैसा उनके मुनाफे के रूप में खाते है इसलिए आप सीधे अपनी फसल को गन्ना मिलो में बेचे ताकि फसल का लाभ आपको मिल सके. तो चलिए जानते है की गन्ना पर्ची कैलेंडर कैसे देखते है?
यह भी पढ़े 👇
स्टेप:-१ Online गन्ना पर्ची कैलेंडर देखने के लिए सबसे पहले तो आपको गन्ना पर्ची की online वेबसाइट kisaan.net पर जाना होगा. आप चाहे तो निचे दिए Go to बटन से सीधे इस वेबसाइट पर जा सकते है.

स्टेप्स:-२ website को खोलने पर आप देख पाएंगे की सीधे हाथ (Right hand side) की ओर Login का बॉक्स दिखाई देगा. तब आपको यहाँ पर ऊपर दिखाई दे रहे English के शब्दों को वेसे का वेसा निचे बॉक्स में डालना है और पुष्टि करे बटन को क्लिक कर देना है.
kisanna-captcha-login-kare
स्टेप:-३ अब आपको अपने क्षेत्र की Factory का नाम चुनना है. आप जेसे ही अपने क्षेत्र की फैक्ट्री का नाम चुनेंगे एक नया पेज खुल जायेगा.
kisaan-factory-select-kare
स्टेप:-४ इस पेज के दायी हाथ में निचे की और लॉग इन (Login) का विकल्प दिखाई देगा को क्लिक करे.
login-kare
स्टेप:-५ अब यहाँ पर लॉग इन करने के लिए २ विकल्प दिखाई देंगे. एक तो अधिकारी लॉग इन और दूसरा किसान लॉग इन तो हमे kisaan लॉग इन को चुनना है क्योंकि हम किसान की गन्ना पर्ची देख रहे है.
स्टेप:-६ अब आपको जिस किसी भी वर्ष के लिए गन्ना कैलेंडर देखना है वह चुने और समिति, क्रय केंद्र, गाँव, किसान चुने या फिर आप चाहे तो कोड से भी खोज सकते है/
kisaaan-net-ganna-parchi-dekkhe
इसके लिए आपको निचे दिए दुसरे बॉक्स में जानकारी देना है फिर English में लिखा कोड निचे बॉक्स में डालना है और गन्ना सम्बन्धी सुचना प्राप्त करे बटन को क्लिक कर देना है. जिससे kisaan.net की गन्ना पर्ची खुल जाएगी.

तो दोस्तों इस तरीके से आप kisaan.net की वेबसाइट से गन्ना पर्ची कैलेंडर को online देख सकते है. आशा करता हु की आप सभी को यह अच्छे से समझ में आया होगा. आपको हमारी यह जानकारी कैसी लगी हमे comment कर जरुर बताये इसी तरह की और भी जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट को Email Subscribe करे.

Microsoft Office यह एक word processing पैकेज है जो की Microsoft कंपनी द्वारा बनाया गया है, जिसमे साधारण दैनिक पत्र व्यव्हार से लेकर desktop पब्लिशिंग स्टार तक के सभी कार्य सुविधापूर्वक किये जा सकते है. इसमें आप पाठ्य (Text) ही नहीं, Image या Graphics भी सरलता से तेयार कर सकते है.
MS office word document को शोर्ट में Word भी कहा जाता है, इसमें परंपरागत Menu तथा कुंजीपटल के शॉर्टकट के साथ ही Ribbon की सुविधा भी उपलब्ध है. Ribbon में सात Tab होते है और आवश्यकतानुसार स्वतः ही आ जाते है.
ms-word-kya-hai
Home, Insert, Page Layout, Reference, Mailings, Review और View जिनमे से प्रत्येक किसी विशेष आदेश के बराबर होता है. प्रत्येक Tab में एक ही कार्य से सम्बंधित विकल्प सम्मिलित होते है. जैसे- Home टैब में text टाइप करने और पाठ्य सामग्री सजाने के विकल्प है. Insert टैब में पाठ्य चित्र, Table, header, footer, आदि जोड़ने के विकल्प है.
Ms Office word processing का use
Ms word का उपयोग letter, application, report, Resume, Table आदि बनाने के विशिष्ट क्षेत्रो में किया जाता है. word एक एप्लीकेशन software का उदाहरण है. word को Run प्रोग्राम से चालू करने के लिए Winword का प्रयोग किया जाता है. Word का दूसरा नाम Word processing होता है. Word का फाइल Extension .docx होता है. word की फाइल डॉक्यूमेंट और डिस्क ड्राइव में Save की जा सकती है. वर्ड के पुरे प्रोग्राम को Application window कहते है.

Ms Office Word को open कैसे करे?

पहला तरीका:-1
Ms word को खोलने के लिए सबसे पहले Windows key के साथ R दबाये जिससे Run प्रोग्राम खुल जायेगा.
ms-office-kaise-open-kare
तब आपको इसमें "winword" टाइप करके Enter करना है. जिससे सीधे ही Microsoft Office Word खुल जायेगा.
दूसरा तरीका:-2
इसे हम All program की मदद से भी खोल सकते है इसके लिए आपको हमारी निचे बताई स्टेप्स को follow करना है.
1.) Task bar में Start button को क्लिक करे जिससे Start Menu खुल जायेगा.
2.) अब यहाँ पर आपको All Program लिखा दिखाई तब इस पर क्लिक करे जिससे कंप्यूटर में installed सभी software के फोल्डर दिखाई देंगे. यहाँ पर आपको Microsoft Office के नाम से फोल्डर भी दिखाई देगा इसे खोले.
3.) यहाँ पर आप देख सकते है की Microsoft Word Office लिखा दिखाई देगा इस पर क्लिक करे जिससे Microsoft office word खुल जायेगा.

MS Word बटन in Hindi

1) Office Button:- यह button Microsoft एक्सेल का सबसे जरुरी button होता है क्योंकि इसमें Sheet के विभिन्न विकल्प - New, Open, Save, Save as, Print, Prepare, Send, Publish, Close जैसे जरुरी विकल्प मिलते है.

2) Quick Access Toolbar:- इसे आप शॉर्टकट टूलबार भी कह सकते है क्योंकि यहाँ पर एक्सेल में सबसे अधिक उपयोग होने वाले shortcuts होते है. जिसे हम क्लिक करके डायरेक्ट एक्सेस कर सकते है. जैसे- undo, redo, save etc. अगर हम चाहे तो अपने उपयोग के आधार पर इसमें और भी shortcuts को जोड़ सकते है.

3) Title Bar:- यह Bar सेंटर में सबसे ऊपर होता है, इसे Title bar कहते है. यहाँ पर Ms Word कि फाइल का नाम दिखाई देता है. अगर हमने फाइल को My Application के नाम से save करते है तो टाइटल बार में My Application नाम दिखाई देगा. By Default इसका नाम Document 1 होता है.

4) Ruler:- यह एक तरह का पैमाना होता है जो की यह बताता है की हम कितने area में work कर सकते है यानि की टाइप कर सकते है. अगर हम चाहे तो इसे कम या ज्यादा भी कर सकते है. इसका उपयोग page की margin को कम-ज्यादा करने के लिए किया जाता है.

5) Status Bar :- यहाँ से हमे ms word की फाइल की स्तिथि पता चलती है की टोटल कितने पेज है, हम किस पेज पर है और कितने words लिखे जा चुके है.
यह भी पढ़े 👇
6) Zoom button:- अगर हम किसी पेज को Zoom करना चाहते है तो यहाँ से प्रतिशत को कम ज्यादा करके zoom in और zoom out कर सकते है. अगर हम प्रतिशत बढ़ाएंगे तो पेज में zoom होगा और कम करते है तो zoom कम होता जायेगा और पेज से दूर होते जायेंगे.

7) Working Area :- Working area, जिस area में लिखने का काम करते है और image, clip art आदि को शामिल करते है वोर्किंग area कहलाता है. वोर्किंग area में जितने भी words लिखेंगे वो हमे स्टेटस बार में संख्या के रूप में दिखाई देंगे.

इस button के आलावा कुछ और button भी होते है जिनकी जानकारी मैंने निचे दी है.

Ms Word की Tabs की जानकारी

एक्सेल कि Tab में हमे टूल्स के ग्रुप मिलते है. एक्सेल में कुल 7 Tabs होती है. इन सभी टैब्स के नाम और इन टैब्स को शॉर्टकट से open करने के लिए shortcuts भी बताये है.
TabShortcut Keys
HomeALT+H
InsertALT+I
Page LayoutALT+P
ReferenceALT+S
MailingALT+M
ReviewALT+R
ViewALT+V
ऊपर हमने जिन button के बारे में बताया था वो सभी Ms word के button थे लेकिन इसके आलावा कुछ और button भी हमे इसमें दिखाई देते है जिसे windows button कहा जाता है जो की हर किसी न्यू windows या software को open करने पर दिखाई देते है.
1) Minimize:- यहाँ से हम वर्तमान में खुले excel spreadsheet को Task bar में minimize यानि कि बैकग्राउंड में कर सकते है और दुसरे काम भी कर सकते है. इन तीनो (Minimize, Maximize, Close) को windows button के नाम से जाना जाता है.
ms-word-windows-button-hindi-me
2) Maximize / Restore:- इस button कि हेल्प से हम एक्सेल कि window कि साइज़ को कम ज्यादा कर सकते है या Resize कर सकते है.
3.) Close:- इस button से हम Excel sheet को क्लोज बंद कर सकते है. अगर आपने फाइल Save नहीं करी है तो फाइल क्लोज होने के पहले फाइल save करने का notification मिलता है.
तो दोस्तों यह थी Microsoft office word document मतलब ms word क्या है के बारे में जानकारी इसमें हमने आपको ms word के बेसिक से जुडी सभी चीजे बताई है. जैसे :- ms word के button, ms word की tabs की जानकारी. आशा करते हु की आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी अगर आप इसी तरह की पोस्ट email पर पाना चाहते है तो हमे Email subscribe करे.

नमस्कार दोस्तों, आज मैं फिर हाजिर हूँ आप लोगो के लिए एक और नया पोस्ट लेकर. जिसमे मैं आपको कंप्यूटर का password हटाये से सम्बंधित जानकारी देने वाला हु. अक्सर यह लोगो में यह देखा जाता है कि जो कंप्यूटर user एक से अधिक कंप्यूटर उपयोग करता है या एक कंप्यूटर में multi User अकाउंट रखता है तो वो computer का password भूल ही जाता है.

तो यहाँ पर हमने आप लोगो के लिए इस problem का solution निकल लिया है. जिससे आप बड़ी ही आसानी से कभी भी किसी भी Windows कंप्यूटर का पासवर्ड हटा सकते है. इसे करने के लिए आपके पास बस कुछ Basic चीजे होना चाहिए और फिर आप किसी भी कंप्यूटर के password को हटा सकते है.
computer-ka-password-kaise-tode


Computer ka Password kaise tode Or hataye?

दोस्तों कंप्यूटर का पासवर्ड भूल जाना एक आम समस्या है और इससे बचने के लिए हम कुछ General उपाय कर सकते है. जैसे- password को कही पर लिख कर, या password Reset डिस्क बनाकर. और उस वक्त आप यह करना भूल चुके है और अंतिम विकल्प के तौर पर password को crack करना चाहते है.
बाज़ार में जब हम password हटाने के लिए कंप्यूटर system को लेकर जाते है तो computer technician हमसे इस चीज के 200-250 Rs. लेता है लेकिन मैं आज आपको एक ऐसा तरीका बताने जा रहा हु जिसकी मदद से आप घर बेठे किसी भी version के windows का password हटा सकते है और अपने 250 रुपये बचा सकते है.

Computer से password हटाने के लिए क्या जरुरी है?
  • खाली DVD
  • Windows Password Remover (जिसका डाउनलोड लिंक हमने निचे दिया है)
  • कंप्यूटर/लैपटॉप
अगर आप इसे ऐसे कंप्यूटर में करने वाले है जिसमे DVD ड्राइव नहीं है तो आपको इसका Boot able Pandrive बनाना होगा और फिर इस process को follow करना होगा.

Laptop/Computer से password हटाने कि STEPS

STEP:-1 निचे दी गयी लिंक से सॉफ्टवेर डाउनलोड कर लीजिये और डीवीडी में डाल लीजिये.

दोस्तों ऊपर बताई चीज आराम से available हो जाती है. अब आपको इसकी process चालू करना होगी. सबसे पहले तो आपको निचे दिए गए लिंक से software डाउनलोड कर लीजिये और किसी DVD data burner कि मदद से इसे DVD में burn कर लीजिये. अगर यह एक ISO फाइल है इसलिए आप इसे directly DVD में कॉपी नहीं कर सकते है तो Data Burner सॉफ्टवेर का उपयोग जरुर करे. अगर आप नहीं जानते है कि CD/DVD में डाटा कैसे डालते है तो हमारी यह पोस्ट जरुर पढ़े.

यह भी पढ़े 👇
STEP:-2 अब कंप्यूटर को restart करके Boot Menu में जाये और Boot Device Priority में First Boot Device CD/DVD को सेलेक्ट कर लीजिये और F10 दबाकर Save कर लीजिये. जैसे ही सेटिंग्स save होगी कंप्यूटर रिसेट हो जायेगा.
dvd-ko-first-set-kare
STEP:-3 Reset होने पर आपके सामने image में दिखाए अनुसार डिस्प्ले होगा. कुछ ही देर में Kon-Boot सॉफ्टवेर खुद ही अपना work करना शुरू कर देगा और कंप्यूटर का password तोड़ना चालू कर देगा. बस आपको कुछ ही सेकंड्स इन्तजार करना है.
kon-boot-loading
STEP:-4 अब कंप्यूटर system automatically रीस्टार्ट होगा और आपके कंप्यूटर का User Name दिखाई देगा. तब आपको कुछ न करते हुए बस Enter कर देना है.
login-kare
Software कि मदद से password को remove करना बहुत आसन है आपको इसमें ज्यादा कुछ करने कि जरुरत नहीं पड़ती है. सब कुछ सॉफ्टवेर ही कर देता है. और इसमें डाटा के खो जाने का दर भी नहीं होता है.
तो देखा दोस्तों इस तरीके से आप बड़ी ही आसानी से किसी भी windows कंप्यूटर/लैपटॉप का password तोड़ कर password हटा सकते है. अगर आपको हमारा यह पोस्ट computer का password कैसे हटाये अच्छा लगा है तो हमे comment करके जरुर बताये साथ ही अगर इसे करने में कोई दिक्कत है तो वो भी बताये.

नमस्कार दोस्तों, प्रतियोगी परिकक्षाओ और B.SC. कंप्यूटर विज्ञान में यह प्रशन पूछा जाता है कि Normalization क्या है और किस काम में आता है। अगर आपने सिर्फ इसके बारे में सुना है लेकिन कभी इसका काम नहीं पड़ा और इसे समझा नहीं है तो आज मैं Normalization पूरी जानकारी देने वाला हु. लेकिन इसके पहले इसके कुछ बेसिक जान लीजिये।
normalization-in-hindi

Normalization कि Definition in Hindi

Normalization एक टेबल डिजाइनिंग method होती है जिसका उपयोग रिलेशनल डेटाबेस को design करने और डाटा कि Redundancy को समाप्त करने के लिए किया जाता है। यह 2 चरण कि process होती है. जो कि लोकल डाटा से Repeating Groups को हटाकर Tabular फॉर्म में बनती है नोर्मालाइजेसन कि process के दोरान लोकल डाटा कि एक जेसी Entries को हटा देती है.
यहाँ पर हमने नोर्मालाइजेसन कि 2 स्तरीय process को बताया है.
Normalization कि 2 Steps
First Step -: पहली step में यह Relational टेबल में उपस्तिथ Redundant data को बाहर करता है या Remove कर देता है, यहाँ Redundant डेटा से आशय वह Data जो एक से अधिक बार store किया गया हो। यानि कि first step में नोर्मालाइजेसन एक फ़िल्टर कि तरह काम करता है.
Second Step -: दूसरी step में, Normalization confirm करता है कि table में केवल उससे related डेटा ही store किया गया हो। अगर यह confirm हो जाता है तो यानि कि वह उस डाटा से Redundancy समाप्त हो चुकी है.
नोर्मालाइजेसन का सिद्धांत Normal Form के concept पर आधारित है यानी कि एक relational table अगर constrains के समूह को संतुष्ट करती है तो हम कह सकते है कि रिलेशनल table Normal Form में है।

Concept of Normalization in Hindi

Normalization का काम एक ऐसी रिलेशनल table का group बनाना होता है जो Redundant डेटा से मुक्त हो यानी कि उसमें अनावश्यक डेटा या डुप्लीकेट Entry न हो। इसका मतलब ये है कि table Third नार्मल फॉर्म में हो क्योकि रिलेशनल टेबल का जब 3NF या Third Normal Form तक normalization कर लिया जाता है तो हम काफी हद तक बेकार डेटाबेस design से जुड़ी problem को खत्म कर देते है।
एक रिलेशनल टेबल तब ही 3NF में आती है, जब Non Key Columns (x) mutually Independent हो और (y) Primary key पर dependent हो। Mutually Independent से तात्पर्य यह है कि कोई भी non key column किसी दूसरे column के combination पर निर्भर नही होना चाहिए।

Normalization का कार्य

Normalization का काम redundancy को घटना यानि कि डुप्लीकेट entry को हटाना होता है और redundancy को कम करने से मतलब एक information को एक ही बार स्टोर करना होता है। एक ही Information को एक से ज्यादा बार स्टोर करने से हमारा storage waste हो जाता है और डाटा मैनेज करने में problem आती है। रिलेशनल Normalized से मतलब है कि जब भी डेटाबेस में रिलेशन्स को alter किया जाए, तो इनफार्मेशन गुम नही होना चाहिए।
आशा करता हु कि आप लोगो को Normalization क्या होता है और इसका Basic concept तो आज clear हो गया होगा आपको अगर हमारा पोस्ट अच्छा लगा तो आप इसे शेयर करे और अगर इससे जुड़ा कोई सवाल है तो कमेंट में जरुर बताये।

टॉपिक चुने

Internet

Internet ke bare me padhe.

Computer

Computer ki Puri jankari.

Mobile

Mobile Tips and Tricks ki jankari

Facebook

Facebook ki puri jankari

Whatsapp

Whatsapp all Tips and Tricks

Banking

Banking ki jankari


Subscribe Our