Internet (इंटरनेट) क्या है in hindi

इंटरनेट आज के टाइम पर कितना आवश्यक बन चूका है मुझे इसके बारे में आपको अधिक बताने कि जरुरत नहीं है क्योंकि इसने पुरे विश्व में अपना डेरा जमा लिया है और हर जगह हमारे साथ जुड़ा हुआ है. हम कंप्यूटर और मोबाइल में जो सभी चीजे घर बेठे ऑनलाइन पर देख पाते है वो सभी internet कि बदोलत है. अगर आप internet से परिचित नहीं है तो इस पोस्ट को पूरा जरुर पढ़े.

Internet का इतिहास (History) in hindi

Internet शब्द कि उत्पत्ति - Internet शब्द कि उत्पत्ति नेटवर्किंग शब्द से हुयी है. जिसका अर्थ है विभिन्न नेटवर्कों के साथ जोड़ना. अर्थात नेटवर्कों के नेटवर्क को इंटरनेट कहते है.
internet-kya-hai-in-hindi
इंटरनेट का इतिहास:- इंटरनेट का इतिहास 1960 से 1970 दशक के उत्तरार्द्ध में, संयुक्त राष्ट्र के रक्षा विभाग ने कंप्यूटर नेटवर्क पर एक प्रोजेक्ट शुरू किया. इस प्रोजेक्ट का नाम "ARPANET" रखा गया था. धीरे-धीरे 1970 के बाद, university, गवर्नमेंट डिपार्टमेंट एंड रिसर्च सेंटर आदि ने भी इस नेटवर्क का उपयोग शुरू कर दिया. टेलीफोन लाइन, वायरलेस टेलीफोन और satellite द्वारा डाटा को भेजने के लिए अनुसन्धानकर्ताओ ने नए निर्देशों का विकास किया.जिसे transmission control protocol या TCP/IP कहा गया.

Internet के घटक (Characters)

फाइल ट्रान्सफर प्रोटोकॉल (FTP) :- FTP फाईलो को भेजने का स्टैण्डर्ड तरीका है. इंटरनेट पर किसी कंप्यूटर से फाइल को कॉपी करने तथा इंटरनेट पर सुरक्षित रखने कि प्रक्रिया है. आप FTP का प्रयोग अपने कंप्यूटर से फाईलो को कॉपी करके उसे इंटरनेट द्वारा दुसरे कंप्यूटर में भेजने के लिए कर सकते है. इसे अपलोडिंग कहते है.
Internet Security Suites:- यह आपकी सुरक्षा तथा प्राइवेसी को बनाये रखने के लिए तेयार किये गए यूटिलिटी प्रोग्रामो का संग्रह (collection) है. जब आप वेब पर होते है तब यह program स्पैम को नियंत्रित करते है, कंप्यूटर वायरसो से बचाव करते है, फ़िल्टर उपलब्ध करते है तथा अनेक अन्य कार्य भी करते है.

WWW:- इसका फुल फॉर्म "वर्ल्ड वाइड वेब" (world wide web) होता है. यह वेब पेज के रूप में संगठित सुचना है, जिसमे टेक्स्ट और ग्राफ़िक होते है. इसमें आप विश्व में किसी भी सॉफ्टवेर पर रन करने वाले program को देख सकते है. Document को प्राप्त कर सकते है. Image, animation, video को देख सकते है और साउंड डाटा को सुन सकते है और शेयर कर सकते है.

IP Address:- आई पी एड्रेस (आइडेंटिफिकेशन) या पहचान, इंटरनेट पर प्रत्येक कंप्यूटर का एक विशेष numeric (अंकीय) एड्रेस होता है जिसे आई पी एड्रेस इंटरनेट प्रोटोकॉल कहते है. इन एड्रेसो का प्रयोग ईमेल भेजने, वेबसाइट को search व open करने के लिए किया जाता है. चूँकि इन एड्रेसो को याद रखना कठिन होता है इसलिए टेक्स्ट आधारित एड्रेसो को numeric IP एड्रेसो स्वतः बदलने के लिए एक पद्धिति का विकास किया गया. इस system में एक डोमेन नाम सर्वर का प्रयोग किया जाता है. जो टेक्स्ट आधारित एड्रेसो में बदलता है.
मोडम:- मोडम शब्द का अभीप्राय modulator- demodulator से है. Modulation डिजिटल सिग्नलों को एनालॉग सिग्नलों में बदलने कि प्रक्रिया है. Demodulation एनालॉग सिग्नलों को डिजिटल सिग्नलों में बदलने कि प्रक्रिया है. अतः मोडम डिजिटल माइक्रो कंप्यूटर को एनालॉग टेलीफोन लाइन पर संवाद करने के लिए सक्षम बनता है जिस गति से मोडम डाटा भेजते है उसे ट्रान्सफर रेट कहते है इसे BPS में नापा जाता है.

ब्रॉडबैंड:- यह बैंडविड्थ है जिसका प्रयोग उच्च क्षमता के ट्रांसमिशन में किया जाता है,इस बैंडविड्थ का प्रयोग विषिस्ट तीव्र गति के उपकरणों तथा DSL युक्त माइक्रो कंप्यूटर केबल और satellite कनेक्शन में किया जाता है. कनेक्टिविटी लोगो को संसाधनों के साथ जोड़ने के लिए कंप्यूटर नेटवर्क से प्रयोग किये जाने से सम्बंधित अवधारणा है. आप कही पर भी अपने माइक्रो कंप्यूटर को टेलीफोन या अन्य संचार संपर्क द्वारा अन्य कंप्यूटरो तथा सुचना स्त्रोतों से जोड़ सकते है. यह कनेक्शन से आप बड़े कंप्यूटर और internet कि दुनिया से जुड़ जाते है.
Internet सर्विस प्रदाता (ISP):- यह एक कंपनी होता है जो एक मासिक भुगतान पर इंटरनेट कनेक्शन प्रदान करता है. सर्विस प्रदाता आपको एक सॉफ्टवेर पैकेज, username, password और फ़ोन नंबर देता है. यह प्रदाता इंटरनेट से पहले जुड़ने के लिए पथ या संपर्क प्रदान करता है.

URL (यूआरएल):- प्रत्येक वेब पेज का एक निश्चित, अलग और अद्वितीय एड्रेस, यूनिफार्म रिसोर्स लोकेटर या छोटे रूप में URL के नाम से जाना जाता है. वेब ब्राउज़र के लोकेशन बार या एड्रेस बार में उस साईट के URL को टाइप कर वेब साईट से आप सीधा जुड़ सकते है. url का पहला भाग रिसोर्स (संसाधन) से जुड़ने के लिए protocol प्रदान करते है. protocol कंप्यूटर के मध्य डाटा के आदान-प्रदान के नियम है. सर्वाधिक प्रयोग किये जाने वाला वेब protocol HTTP है.

ऊपर बताये इन चीजो से मिलकर इंटरनेट चलता है लेकिन इसमें हम इसे पूर्ण नहीं कह सकते है क्योंकि और भी कई साडी छोटी सी चीजे होती है जिससे internet चलता है. जिसे हम अगली पोस्ट में डिटेल से बताएँगे. अभी के लिए सिर्फ इतना ही आशा करता हु कि internet क्या है और किन चीजो से मिलकर बना है समझ में आया होगा.

No comments:

Post a Comment